महीना मार्क्स का है (Karl Marx)

महीना मार्क्स का है. जन्मदिन कुछ पीछे छूट गया, लेकिन उनके दो सौ साल पूरे होने पर नये सिरे से मार्क्स पर बहस-मुबाहसा शुरू हुआ है. भारत में लेकिन अभी ऐसी ताकतों का बोलबाला है जो मार्क्स-मैकॉले-मुसलमान की एक राष्ट्र विरोधी तिकड़ी की कल्पना करके इन सबको देशनिकाला देने की मुहिम चला रही हैं. यह अभियान जितना “बौद्धिक” है, उतना ही शारीरिक भी.

माना जाता है कि मार्क्स के सबसे ताकतवर उत्तराधिकारी माओवादी हैं, इसलिए उन्हें आतंकवादी और राष्ट्रविरोधी ठहराकर उनपर चौतरफा हमला किया जा रहा है. यह कहा जा रहा है कि छत्तीसगढ़ और झारखण्ड के जंगलों में छिपे माओवादी जितने खतरनाक हैं उनसे कम वे नहीं जो भारत के विश्वविद्यालयों में बौद्धिकों का भेस धर कर नौजवानों को बहका रहे हैं.

एक समय था जब मार्क्स, बौद्धिकता और जवानी का रिश्ता सहज माना जाता था. मार्क्सवादी होने का एक और अर्थ था परिवर्तनकामी होना, बल्कि परिवर्तनकारी होना. अब जब परिवर्तन भी एक राजकीय परियोजना में बदल गया हो तो मार्क्स और नौजवान क्या करें. भारत की सरकार ने अपनी एक संस्था का नाम ही दे दिया है: नेशनल इंस्टिट्यूट फॉर ट्रांसफॉर्मेशन ऑफ़ इंडिया. जब परिवर्तन का जिम्मा सरकार ने ही ले लिया  तो मार्क्स के वारिस माओवादी फिर उसमें अड़ंगा डालने वाले ही ठहरे.

नौजवान किन्तु मार्क्स के करीब आते थे बदलाव की प्रेरणा के साथ. यह कहना अधिक उचित है कि बदलाव की तड़प ही उन्हें मार्क्स के करीब ले जाती थी, यह नहीं कि मार्क्स से होकर या उनके सहारे वे बदलाव की राह पर आते थे. लेकिन  यह बदलाव कोई रोज़ घटित होनेवाली चीज़ नहीं थी. हर तीसरे रोज़ जो परिवर्तन रथ निकला करते हैं, उनपर सवार होकर उसे न आना था. परिवर्तनकारी कुछ वैसा ही शब्द है जैसा युगांतकारी. इसलिए वह म्युनिसिपल या पंचायत या संसदीय चुनाव के रास्ते आये, यह बात ही हास्यास्पद लगती है.

मार्क्सीय होने का मतलब भौतिकतावादी होना है. लेकिन मार्क्स का परिवर्तन व्यक्तिगत और सामाजिक, दोनों ही रूपों में मात्र जीवन की भौतिक परिस्थितियों में नहीं, बल्कि जीवन के प्रति नज़रिए में तब्दीली की महत्त्वाकांक्षा से प्रेरित है. इस रूप में यह आध्यात्मिक मिशन मालूम पड़ता है.

बदलाव या परिवर्तन मार्क्सीय चिंतन का उद्देश्य है या उसकी धुरी है. “दार्शनिकों ने अब तक दुनिया की व्याख्या की है जब कि सवाल उसे बदलने का है”, यह मार्क्सीय उक्ति मार्क्स को दूसरे विचारकों से बिलकुल अलग ही स्तर पर स्थापित कर देती है.

टेरी इगलटन की एक बात इस सन्दर्भ में बड़ी दिलचस्प है. उन्होंने मार्क्सवादी होने की मुश्किल की ओर इशारा किया है. वे कहते हैं कि मार्क्सवादी होने का अर्थ ही है कुछ करना. यह कुछ कुछ बढ़ई होने की तरह है. बढ़ई होने का मतलब है कुछ बनाना, सिर्फ किसी शिल्प की कल्पना करना नहीं. इसलिए दार्शनिक और विचारक अवश्य ही और भी बड़े हुए हैं और उनकी मेधा किसी से कम नहीं, लेकिन विचार करने का अर्थ ही यथास्थिति को बदल देना है, यह जितना मार्क्स के साथ जुड़ा है, उतना शायद किसी और के साथ नहीं. ‘मैं सोचता हूँ, इसलिए हूँ’ की जगह “मैं करता हूँ, इसीलिए हूँ”, जैसे मार्क्स के कहे बिना यही उनके चिंतन का सार हो.

जब क्रिया की बात हो रही हो हम भारतीय भी एक दावा गांधी की शक्ल में पेश कर सकते हैं. जैसे मार्क्सवादी होने का मतलब ही है क्रियाशील होना, वैसे ही आप सिर्फ चिन्तक होकर गांधीवादी नहीं हो सकते. गांधी एक जगह मार्क्स से एक कदम आगे जान पड़ते हैं: उन्होंने इसकी परवाह भी नहीं की कि कोई मुकम्मल दार्शनिक ढाँचा खड़ा करके फिर अपने राजनीतिक या सामाजिक कार्यक्रम को उसके आधार पर जायज़ ठहराया जाए. गांधी के दर्शन की बात दूसरों ने की, गांधी ने अपने कर्म के जरिए ही उसे विकसित किया.

प्रायः मार्क्सवादी गाँधी को मार्क्स से इसीलिए कमतर आंकते रहे हैं क्योंकि वे उनके उपक्रम को बौद्धिक कम, भावनात्मक अधिक मानते हैं. ऐसा लगता है कि गांधी कुछ-कुछ अन्तःप्रेरणा से काम कर रहे थे और इसीलिए कई लोगों को उनके आन्दोलन में तार्किक क्रम खोजने में कठिनाई मालूम पड़ती है. जान पड़ता है, मानो गाँधी को खुदाई इलहाम होता हो और जो गांधी को उनके अगले कदम की ओर ले जाता हो. नेहरू जैसे वैज्ञानिक चेतना संपन्न बौद्धिक को भी वे एक जादूगर की तरह दिखलाई देते थे. उनके फैसलों से सहमत न होते हुए भी उनके साथ चलना जैसे किसी दैवी आदेश से हो रहा हो.

गांधी और मार्क्स में तुलना करके एक को दूसरे से श्रेष्ठ ठहराने का यहाँ इरादा नहीं और उससे अधिक गैर-मार्क्सवादी कार्य कुछ हो नहीं सकता. लेकिन एक अंतर ज़रूर है: मार्क्स अपने स्वप्न को पूरा करने के लिए कोई क्रियाशील अभियान जीवन पर्यंत चलानेवाले न थे, गाँधी ने खुद एक बड़ा संगठन खड़ा किया और कई आंदोलनों का नेतृत्व भी किया.

एक दूसरे अर्थ में मार्क्स और गाँधी एक जैसे जान पड़ते हैं. दोनों ने असंभव आदर्श की कल्पना की. गाँधी का अहिंसक समाज और मार्क्स का वर्ग-विहीन या वर्गातीत समाज दोनों ही नामुमकिन ख्याल हैं. लेकिन वे इतने ज़रूरी जान पड़ते हैं कि उनकी तामीर में ज़रा भी देर नहीं की जा सकती या नहीं की जानी चाहिए. दूसरे, बिना वर्गों के भेद को ख़त्म किए अहिंसक समाज बन नहीं सकता, यह भी सच है.

मार्क्स की ताकत इससे जाहिर होती है कि ज़िंदगी पुस्तकालयों में बिता देने वाले व्यक्ति ने दुनिया भर में शायद सबसे बड़ी तादाद में लोगों को घरों से निकलकर अपनी दुनिया को बदल डालने के अभियान में डाल दिया. इससे भी कि बावजूद एक पूरी शताब्दी की असफलता के, वह अभी भी संभावनापूर्ण लगता है.

मार्क्स की सफलता देखी गई थी समाजवादी क्रांतियों में: सोवियत संघ, साम्यवादी चीन, पूर्वी यूरोप में समाजवादी सरकारों के गठन में. लेकिन सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टियों ने मार्क्सीय स्वप्न को एक गैर मामूली यातना में बदल दिया, सत्ता के यथार्थ ने उसके रूमान को झुलसा दिया.

यह भी दिलचस्प है जहाँ कम्युनिस्ट पार्टियों का शासन था, वहाँ मार्क्स के चिंतन  में सर्जनात्मक योगदान न के बराबर हुआ. अगर हुआ भी तो उनके द्वारा जो शासक कम्युनिस्ट पार्टियों से प्रताड़ित किए गए थे. ऐसे निजामों ने अपने हर निर्णय के औचित्य साधन के लिए मार्क्स की सेवा ली, लेकिन हर उस व्यक्ति को संशोधनवादी ठहराया जो अपने ढंग से मार्क्स को पढ़ रहा था या उसकी व्याख्या कर रहा था.

विडंबना यह है कि मार्क्सीय चिंतन में अधिक साहसी प्रयोग गैर साम्यवादी यूरोप में किए गए और प्रायः ऐसा जिन्होंने किया, उन्हें कम्युनिस्ट पार्टियों ने निकाल बाहर किया. स्वतंत्र मार्क्सीय चिंतन और सत्ता के बीच यह उल्टा रिश्ता मार्क्स पर नहीं, इन पार्टियों पर प्रतिकूल टिप्पणी है.

उदारवादी अर्थव्यवस्था की उछाह का झाग जब अमरीकी बैंकों के ढह जाने से बैठ  गया, मार्क्स की तरफ पूंजीवादी दुनिया का ध्यान गया. मार्क्सीय साहित्य की बिक्री कई गुना बढ़ गई. अकादमिक विश्व में भी मार्क्सीय सिद्धांत व्यवस्था के प्रति दिलचस्पी बढ़ती हुई देखी गई. एक वक्त जिस देश ने कम्युनिस्ट को अमरीकीद्रोही का पर्यायवाची बना दिया था उसके विश्वविद्यालयों में मार्क्स बौद्धिक उत्तेजना के चिरंतन  स्रोत हैं.

लेकिन क्या यही मार्क्स की सफलता है?

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s