पग-पग पर हिंसा की ज्वाला, चारों ओर गरल है ; मन को बाँध शान्ति का पालन करना नहीं सरल है.

“मेरे पिता को पाकिस्तान ने नहीं, युद्ध ने मारा,” यह लिखनेवाली गुरमेहर  कौर को चारों ओर से लानत भेजी जा रही है. ज़रूर उस सैनिक की आत्मा अपनी बेटी के इस पतन पर रो रही होगी, ऐसा कहा भारत के गृह राज्यमंत्री ने.

बीस साल की गुरमेहर अपने ऊपर होनेवाले हमले से विचलित न हुई. उसे जब बलात्कार करके राष्ट्रवादी सबक देने की धमकी दी गई, जिसका अनेक लोगों ने मज़ा लिया, तब वह लज्जित न हुई. भारत के राष्ट्रवादियों की शर्मनाक हिंसा ज़रूर उजागर हो गई. यह कि भारत माता की जय के नारे किसी का गला दबाकर जो लगवाता है, उसे भारत माता की प्रतिष्ठा की उतनी फिक्र नहीं, जितना अपना दबदबा मनवा लेने का सुख होता है.

गुरमेहर ने एक वीडियो के जरिए अपनी मनोयात्रा का वर्णन किया था. उसे सुनने और समझने के लिए एक ऐसा मस्तिष्क और हृदय चाहिए जो आत्मग्रस्त न हो और दूसरों से रिश्ता बनाने को उत्सुक हो. उस वीडियो में वे बतात्ती हैं कि उनके पिता जब कारगिल युद्ध में मारे गए, तो वे दो साल की थीं. वे बड़ी हुईं, पाकिस्तानियों से नफरत करते हुए. और भारत में पाकिस्तानियों और मुसलमानों को एक मानने का जो सहज बोध है उस वजह से ही एक बार उन्होंने बुर्का पहने एक औरत पर हमला करने की कोशिश भी की. तब वे सिर्फ छह साल की थीं. यह वह क्षण था, जब अपनी बड़ी होती बेटी की घृणा से चिंतित हो उनकी माँ ने उन्हें समझाया कि अगर युद्ध न होता, उनके पिता न मारे जाते. पाकिस्तानियों की कोई दिलचस्पी उन्हें मारने में न थी. यह जंग थी, जिस वजह से वे मारे गए.

गुरमेहर और उनकी माँ को बेहतर शब्द के अभाव में हम शांतिप्रिय कहेंगे, ऐसे लोग जो युद्ध नहीं चाहते. उनके बारे में पढ़ते वक्त मुझे भीष्म साहनी द्वारा अनूदित चिंगेज आइत्मातोव और मोहम्मेजानेव का नाटक फूजीयामा याद आ गया. यह पाँच दोस्तों की कहानी है जो अपनी उम्र छिपाकर फौज में भर्ती हो जाते हैं ताकि हिटलर की सेना से लड़ रहे अपने मुल्क की हिफाजत कर सकें .उनमें से एक साबूर कवि है.

जंग जारी है. हालाँकि हिटलर की सेना को पीछे धकेल दिया गया है, लेकिन अब सोवियत फौज आगे बढ़ रही है, यूरोप को हिटलर से आज़ाद करने. इस समय साबूर के मन में युद्ध से विरक्ति के भाव उठने लगते हैं. इस वक्त को याद करते हुए एक मित्र माम्बेत बहुत बाद में कहता है, “ …यह …एक ऐतिहासिक दायित्व था कि हम यूरोप के लोगों को फासिज्म से आज़ाद करें. और यह हो नहीं सकता कि एक सच्चा आदमी, एक देशभक्त इस बात को न समझ पाया हो. फिर यह कैसे हुआ कि उसकी शायरी में एक धुंधली सी शांतिप्रियता घुस आई … .मैं उससे कहा करता, “ साबूर, तुम यह समझने की कोशिश करो कि इतिहास की माँग है कि जंग को खत्म करने के लिए हमारा जंग करना ज़रूरी हो गया है…”

साबूर ने इसका उत्तर दिया, “क्या तुम कल्पना कर सकते हो कि इसके लिए हमें कितनी कीमत चुकानी पड़ेगी? कितनी जानें जाएँगी और कितनी यातना सहनी पड़ेगी?”

साबूर ने उन्हीं यातना के क्षणों में एक कविता लिखी: “जिस क्षण खतरे की घन्टी बंद होगी / हताहत लोगों के साए उठेंगे / और वह अदृश्य भीड़ / चुपचाप बढ़ती हुई मेरी ओर आएगी / मैं उन्हें क्या कहूँगा? / इस भयानक जंग में मरने वालों को / राहत देने के लिए / मैं क्या कह पाऊँगा ?/ मौत ने सभी को एक समान बना दिया है / सभी हताहत, प्रत्येक हताहत / मानवजाति का पुत्र है / कोई मार्शल नहीं, कोई सैनिक नहीं… / कोई भी अपना नहीं, कोई भी पराया नहीं / हमारे ऊपर वह कौन है / जिसने आनेवाली पीढ़ियों का भाग्य निर्णीत किया है?/ मानवता के अथाह सागर में यातना की सीमाएँ कहाँ हैं?..”

मोर्चे पर जंग के बीच युद्ध को लेकर मन में उठने वाले इस संशय के कारण साबूर गिरफ्तार कर लिया जाता है. वह जो जंग में था और दुश्मनों को मारते हुए, जिनके चेहरे में उसे अपने चेहरे दीखने लगे थे, जिसे युद्ध की निरर्थकता का अहसास होने लगा था, इस संशय के क्षण में पर्याप्त देशभक्त न रहा.

हर वह व्यक्ति जो देशभक्ति में किसी भी प्रकार का संशय पैदा करे, देशद्रोही ही हो सकता है.

युद्ध को लेकर सवाल सिर्फ शान्ति के समय ही उठाएँ जाएँ, ऐसा नहीं. वियतनाम पर हमले के समय अपने देश के खिलाफ जाते हुए अमरीका में जो युद्ध-विरोधी लहर उठी, उसका सानी नहीं. सिर्फ मोहम्मद अली न थे, जिन्होंने सेना में भर्ती होने से इनकार किया और सज़ा भुगती.

महमूद दरवेश जो इस्राइली हमलों के बीच कुचली जा रही और लहूलुहान फिलस्तीनी जनता की आवाज़ थे, अपने दुश्मन की आँखों में अपना चेहरा देखते थे. युद्ध हल नहीं है. महमूद की इस कविता को इस तरह भी पढ़ा जा सकता है, कि वे वे एक साझा इंसानियत की कल्पना कर रहे हैं. ये जो दो आमने सामने बैठे हैं, वे शत्रु देशों के नागरिक हो सकते हैं:

वह शांत है, और मैं भी

वह नींबू वाली चाय पी रहा है,

और मैं कॉफ़ी पी रहा हूँ,

यही फर्क है हम दोनों के बीच.

उसने पहन रखी है, जैसे मैंने, धारीदार बैगी शर्ट

और मैं पढ़ रहा हूँ, जैसे कि वह, शाम का अखबार.

वह मुझे नज़र चुरा कर देखते नहीं देखता

मैं उसे नज़र चुरा कर देखते नहीं देखता,

वह शांत है, और मैं भी.

वह वेटर से कुछ माँगता है,

मैं वेटर से कुछ माँगता हूँ…

एक काली बिल्ली हमारे बीच से गुजरती है,

मैं उसके रोयें सहलाता हूँ

और वह उसके रोयें सहलाता है….

मैं उसे नहीं कहता : आज आसमान साफ़ था

और अधिक नीला

वह मुझसे नहीं कहता : आसमान आज साफ़ था.

वह दृश्य है और द्रष्टा

मैं दृश्य हूँ और द्रष्टा

मैं अपना बायाँ पैर हिलाता हूँ

वह अपना दायाँ पैर हिलाता है

मैं एक गीत की धुन गुनगुनाता हूँ

वह उसी धुन का कोई गीत गुनगुनाता है.

मैं सोचता हूँ : क्या वह आईना है जिसमें मैं खुद को देखता हूँ?

तब मैं उसकी आँखों की ओर देखता हूँ,

लेकिन मैं उसे नहीं देखता…

मैं कैफे से निकल आता हूँ तेजी से .

मैं सोचता हूँ, हो न हो वह एक ह्त्यारा  है, या शायद

वह एक  राहगीर  है जो सोचता हो कि मैं हत्यारा हूँ

वह डरा हुआ है, और मैं भी !

युद्ध विरोध या शान्तिप्रियता एक कठिन और जटिल भावना है जबकि देश भक्ति और युद्धोन्माद एक आसान भावना. आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने भावनाओं का एक वर्गीकरण इस प्रकार का किया है. राष्ट्रप्रेम या देशभक्ति का अविचारित अंगीकार किया जा सकता है जबकि शांति या युद्ध विरोध के लिए एक दीर्घ और कठिन अभ्यास की आवश्यकता है.

गुरमेहर पर जो हमले हो रहे हैं, उसका एक कारण यह भी है कि हमारे समाज में शांति के आन्दोलन या अभियान लगभग मर चुके हैं. भारत चीन के युद्ध के वक्त जवाहरलाल नेहरू को लेकर जो अधैर्य दिनकर में पैदा हुआ था उसका कारण भी यही था कि वे उसी आसानी के शिकार हो गए.

उसी दिनकर ने यह भी  लिखा, “यह ठीक है कि देश के भीतर दिग्विजय करने वाले योद्धा इस देश में भी बहुत हुए, किन्तु भारत नाम में जो दिव्यता है उसके प्रतीक यहाँ अर्जुन नहीं, युधिष्ठिर रहे हैं; चंद्रगुप्त नहीं अशोक रहे हैं. और आधुनिक काल में भी भारतवर्ष की जनता का निश्छल प्रेम लोकमान्य तिलक की अपेक्षा महात्मा गाँधी को अधिक प्राप्त हुआ.”

दिनकर आगे लिखते हैं “अगले संसार के नेता वे होंगे जो धीर और सहनशील हैं. जो समझौते और सहअस्तित्व को कायरता नहीं, धर्म मानकर वरण करते हैं.”

दिनकर को लेकिन उस कठिनाई का अहसास है जो शांतिप्रियता की भावना को हासिल करने की है. संघर्ष राष्ट्र्वाद से होने वाला है, “मनुष्य में अभी भैंस के कितने ही लक्षण विद्यमान हैं. भैंस में भी तो यह राष्ट्रीयता ही है कि वह दूसरी भैंस को अपने खूँटे के पास नहीं आने देती. छोटी और बड़ी मनुष्यता में संघर्ष है. और इस संघर्ष में बर्बरता विजयी और मनुष्यता पराजित होती देखी  गयी है, तो क्या इस भय से हम संस्कृति के विकास पर…रोक लगा दें और उतनी बर्बरता बराबर लिए रहें जो बर्बरता के वार से बचने अथवा उसे नियंत्रित करने को आवश्यक है? उत्तर के लिए हमें चाणक्य-नीति के नहीं, अपने हृदय के पन्नों को उलटना चाहिए…. :

पग-पग पर हिंसा की ज्वाला, चारों ओर गरल है;

मन को बाँध शान्ति का पालन करना नहीं सरल है.

तब भी जो नरवीर असिव्रत दारुण पाल सकेंगे,

वसुधा को विष के विवर्त से वही निकाल सकेंगे.”

गुरमेहर अगर कह पाती दिनकर को सिर्फ इतना कि असिव्रत का पालन नरवीर नहीं कर पा रहे हैं, ये स्त्रियाँ हैं जो यह कर रही हैं और ऐसा करने के लिए  नर-घृणा का वार सह रही हैं.

Advertisements

One thought on “पग-पग पर हिंसा की ज्वाला, चारों ओर गरल है ; मन को बाँध शान्ति का पालन करना नहीं सरल है.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s