ऑशवित्ज़ (Auschwitz by Maria Lotocka)

दोजानू हो जाओ और याद करो —
              यह ज़मीन पाक है —
यह ऑशवित्ज़ की ज़मीन है
                   … ये नन्हें जूते
दुखते नन्हें पाँवों से
              और केश, काले कुचकुच केश
बसंत तक नहीं पहुँचे.
              ये कंबल भूरे, ठंडे
कंकालों को ढँकते थे.
             दोजानू हो जाओ और याद करो
यहाँ हर खित्ता पाक है
             यहाँ है ऑशवित्ज़ की ज़मीन.
मुँह फुसफुसाते रहे व्यर्थ
             पोलिश में, रूसी में
ओ गोस्पोंदी, ओ बोज़’—
             या ख़ुदा, मरने न दे हमें
मदद कर !
             ऑशवित्ज़ पहले ही ऑशवित्ज़ 
ट्रेन से उतर जाएँ प्लीज़  मैं सुनती हूँ –
             क्या यहाँ सचमुच ऑशवित्ज़ था ?
वह है – जवाब देती है दहशतनाक खामोशी ...
 
 
पोलिश कवयित्री – मारिया लोतोच्का 
संकलन – द ऑशवित्ज़ पोएम्स 
संपादक – ऐडम ए ज़िक (Zych)
पोलिश से अंग्रेज़ी अनुवाद – जून फ्रीडमैन
प्रकाशक – ऑशवित्ज़–बिरकानेऊ स्टेट म्यूजियम, 1999 
अंग्रेज़ी से हिन्दी अनुवाद – मार्च, 2013

द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान नाज़ी जर्मनी द्वारा बनाया गया ऑश्वित्ज़ कुख्यात यातना शिविर है. यह पोलैंड में स्थित है. युद्ध ख़त्म होने के बाद इस जगह को संग्रहालय का रूप दे दिया गया है.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s